Friday, 16 Nov 2018

ग्वालियर : आंधी-बारिश से गर्मी के तेवर ठंडे, 16 डिग्री गिरा पारा, 4.2 मिमी बारिश

गुरुवार शाम को तेज आंधी के कारण नगर निगम के भंडार कक्ष के ऊपर लगी लोहे की आठ चादरें नजरबाग मार्केट में गिर गईं।

ग्वालियर : आंधी-बारिश से गर्मी के तेवर ठंडे, 16 डिग्री गिरा पारा, 4.2 मिमी बारिश

+4और स्लाइड देखें

ग्वालियर.ग्वालियर में 4 दिन से पड़ रही भीषण गर्मी के तेवर गुरुवार को आंधी व बारिश ने ठंडे कर दिए। उत्तर-पश्चिम मप्र में ऊपरी हवा में चक्रवात बनने और गरमाहट के कारण दोपहर 2 बजे बादल छाए और 4 बजे अंधेरा हो गया। आधा घंटे बाद ही 20 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से 15 मिनट तक हवा चली, इससे शहर के कई इलाकों में पेड़ गिर गए। लेकिन जब घटाएं बारिश में बदलीं तो जमीन ठंडी हो गई। करीब आधा घंटे में 4.2 मिमी बारिश दर्ज की गई। इससे दोपहर 3:30 बजे 44 डिग्री पारा 2 घंटे बाद शाम 5:30 बजे 16 डिग्री गिरावट के साथ 28 डिग्री पर आ गया। हालांकि गुरुवार को दिन का अधिकतम तापमान 45.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

आगे क्या: तेज हवा के साथ आज भी हो सकती है बारिश

मौसम वैज्ञानिक उमाशंकर चौकसे के मुताबिक पूर्व राजस्थान से लेकर झारखंड तक टर्फ लाइन बनी हुई है। इससे अंचल के कुछ क्षेत्रों में अगले 24 घंटे के दौरान तेज हवा के साथ बौछार पड़ सकती है।

भास्कर: 4.2 मिमी बारिश में ये हाल, मानसून में क्या होगा? मेयर : नाले में पानी जाने के रास्ते बंद थे, अब खुलवाएंगे

गुुरुवार को शहर में हुई मामूली बारिश और आंधी ने नगर निगम की प्री- मानसून तैयारियों की हकीकत उजागर कर दी है। सिर्फ 4.2 मिलीमीटर बारिश के कारण न सिर्फ शहर के कई मार्गों पर पानी जमा हो गया बल्कि जगह-जगह गिरे पेड़ों के कारण लोगों को रास्ते तक बदलने पड़े। सड़कों पर पानी भरा होने से पैदल राहगीर और वाहन चालकों को निकलने में दिक्कत आईं। निकलते वक्त पानी भरने से कुछ दुपहिया वाहन बंद तक हो गए।

भास्कर ने महापौर विवेक नारायण शेजवलकर से पूछा कि क्या मानसून में भी ऐसी ही स्थिति बनेगी? महापौर का कहना था कि बारिश जुलाई तक शुरू होगी। हमने अभी क्षेत्र के नालों की सफाई शुरू कर दी है। गुरुवार की बारिश से नदी गेट पर पानी भरा दिखा। वहां पर डिवाइडर से नाले में बारिश का पानी पहुंचाने वाले छेद बंद हो गए थे। ऐसी ही स्थिति दूसरे डिवाइडरों पर भी है। अब यह छेद खुलवाए जाएंगे और नालियों की सफाई होगी, ताकि बारिश का पानी सड़कों पर न जमा हो।

नजरबाग मार्केट में हुआ हादसा: गुरुवार शाम को तेज आंधी के कारण नगर निगम के भंडार कक्ष के ऊपर लगी लोहे की आठ चादरें नजरबाग मार्केट में गिर गईं। हादसे में यहां खरीदारी कर रही एक महिला चोटिल हो गई। उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। जबकि एक अन्य महिला ने चादर खुद पर गिरने से रोक ली। नगर निगम के क्षेत्रीय कार्यालय-19 के जेडओ राकेश कुशवाह ने बताया कि भंडार कक्ष के ऊपर लगीं आठ चादरें गिरी हैं। उनसे कोई नुकसान नहीं है। वहां शेष बची 40 चादरों को हटवाने के लिए आयुक्त विनोद शर्मा से स्वीकृति मांगी जाएगी। उसके बाद उन्हें हटाया जाएगा। वहीं नजरबाग मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश बंसल का कहना है कि हमने चादरें हटाने के लिए आवेदन दिया था, लेकिन निगम ने कुछ नहीं किया।

यहां भरा सड़कों पर पानी
– रेलवे स्टेशन पेट्रोल पंप के पास।

– लक्ष्मीबाई समाधि के सामने बने पुल पर।

– फूलबाग गुरुद्वारे के सामने।

– सिटी सेंटर क्षेत्र और सिटी सेंटर पुल के नीचे।

यहां गिरे पड़े
आमखो स्थित सीआईडी आफिस के नजदीक वर्कशॉप पर {कन्या छात्रावास के बाहर {जलविहार व रेसकोर्स रोड में पेड़ों की डालियां टूटकर रोड पर गिर गईं।

संयोग: पिछले साल की तरह नौतपा से पहले बारिश

पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी नौतपा के एक दिन पहले बारिश हुई। लश्कर में जहां 30 मिनट तेज बारिश हुई। वहीं मुरार व थाटीपुर क्षेत्र में हल्की बारिश से हुई। दोपहर 3:30 बजे तक चढ़ा पारा बारिश के बाद लुढ़कने लगा। जबकि शाम 7:30 बजे से फिर से पारा चढ़ना शुरू हो गया। पिछले दिन की तुलना में अधिकतम तापमान 1 डिसे गिरावट के साथ 45.2 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 3.1 डिग्री अधिक रहा। जबकि न्यूनतम तापमान 1.4 डिसे बढ़त के साथ 26.6 डिग्री दर्ज किया गया।

3 घंटे गिरा पारा शाम के बाद फिर उछला

समय 23 मई 24 मई
10:30 41.0 40.2
11:30 43.0 42.0
12:30 44.4 44.0
1:30 45.2 44.8
2:30 45.4 44.8
3:30 45.6 44.0
4:30 45.4 33.6
5:30 44.4 28.0
6:30 41.0 28.8
7:30 40.0 29.4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *